***********बयां ***************

हसरतें इतनी न बढ़ा की कदम रुक न सके 
ये सोच कुछ कहने से पहेले हम रुक जाते है 
आलम ऐ जिक्र न कर की  जब गुफ्तगू ना हो 
ये ही सोच कर तेरी तरफ खिचे चले आते हैं ..............

Comments

Popular posts from this blog

तुम्हारे लिए हम है आए

****ख्वाहिश ****

*****हिसाब ****